दिल्ली के नए संसद भवन की जबरदस्त कार्ययोजना, आधुनिक सुविधाओं से होगी लैस

नई दिल्ली। दिल्ली में नए संसद भवन का शिलान्यास गुरूवार 10 दिसम्बर को होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi) गुरुवार को नए संसद भवन का भूमि पूजन (New Parliament House Bhoomi Pujan) करेंगे।नए भवन का निर्माण कार्य अक्टूबर 2022 तक पूरा करने की तैयारी है।दरअसल आजादी की 75 वीं वर्षगांठ के मौके पर इसी भवन में संसद सत्र का आयोजन किए जाने की योजना है। नए संसद भवन में लोक सभा का आकार मौजूदा संसद से करीब तीन गुना ज्यादा होगा। वहीं राज्य सभा का भी आकार बढ़ेगा।

निर्माण में टाटा का भरोसा
नई संसद का निर्माण कुल 64,500 वर्गमीटर क्षेत्र में करवाया जाएगा। जिसका निर्माण का जिम्मा टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड को दिया गया है। वहीं नई संसद भवन का डिजाइन एचसीपी डिजाइन प्लानिंग एंड मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड ने तैयार किया है। शहरी कार्य मंत्रालय के अधिकारियों की मानें तो नया संसद भवन भारत की आधुनिक आवश्यकताओं और आकांक्षाओं के अनुरूप बनेगा। इसका निर्माण  अगले 100 साल की जरूरतों को ध्यान में रख कर किया जाएगा, जिससे भविष्य में सांसदों की संख्या बढ़ने पर भी  उनके बैठने में कोई दिक्कत पेश न आए।

विशेष तकनीकों और खास सुविधाओं से होगा लैस
मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक नया संसद भवन अत्याधुनिक, तकनीकी सुविधाओं से पूर्ण होगा। बिजली की सुविधा के साथ ही पूरी इमारत में सोलर सिस्टम के जरिए ऊर्जा की बचत भी होगी। मौजूदा संसद भवन के बगल में यह त्रिकोणीय आकार की नई इमारत सुरक्षा से जुड़ी सभी सुविधाओं से लैस होगी। नई लोक सभा मौजूदा लोकसभा के आकार से तीन गुना बड़ी होगी और राज्य सभा का आकार भी पुराने की तुलना में अधिक होगा। 

ये भी पढ़ें:-किसानों की चेतावनी, तीनों कृषि कानून रद्द हों, नहीं तो बंद कर देंगे दिल्ली

भूकंप के तेज झटके झेलने में होगा सक्षम

नए भवन की सज्जा में भारतीय संस्कृति, क्षेत्रीय कला, शिल्प और वास्तुकला की विविधता का समृद्ध मिलाजुला स्वरूप होगा। डिजाइन योजना में केंद्रीय संवैधानिक गैलरी को स्थान दिया गया है। आम लोग इसे देख सकेंगे।इसके अलावा पर्यावरण अनुकूलता का खास ख्याल रखा गया है। नए भवन में उच्च गुणवत्ता वाली ध्वनि तथा दृश्य-श्रव्य सुविधाएं, बैठने की आरामदायक व्यवस्था, आपातकालीन निकासी की व्यवस्था भी होगी। इमारत उच्चतम संरचनात्मक सुरक्षा मानकों का पालन करेगी। भूकंप के तेज झटके भी इमारत झेल लेगी ऐसी डिजाइन तैयार की गई है, क्योंकि दिल्ली में रिक्टर पैमाने पर तेज भूकंप के झटके आए हैं, इसी के मद्देनजर इसकी भूकंप झेल सकने की क्षमता को बढाकर रखा गया है।

ये भी पढ़ें:-किसानों का हक कोई नहीं छीन सकता-कृषि मंत्री

शिलान्यास और भूमि पूजन में 200 अतिथि निमंत्रित
संसद भवन के शिलान्यास और भूमि पूजन समारोह में लोक सभा अध्यक्ष ओम बिड़ला (Om Birla), संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी (Pralhad Joshi), आवास एवं शहरी मामलों के राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) और राज्य सभा के उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह (Harivansh Narayan Singh) शामिल होंगे। केंद्रीय कैबिनेट मंत्री, राज्य मंत्री, संसद सदस्य, सहित लगभग 200 लोग लाइव वेबकास्ट के जरिए भूमि पूजन समारोह में मौजूद रहेंगे।

ये भी पढ़ें:-नीति आयोग के सीईओ का विवादित बयान, भारत में है कुछ ज्यादा ही लोकतंत्र !

https://twitter.com/MyGovHindi/status/1336940281627693056

पूरी स्टोरी पढ़िए