कृषि मंत्री नरेन्द्र तोमर की सफाई

नई दिल्ली। सरकार के प्रस्ताव के बाद भी किसान मानने को तैयार नहीं है, माना जा रहा था कि 9 दिसम्बर को मोदी कैबिनेट की अहम बैठक में कई बड़े फैसले हो सकते हैं। लेकिन कृषि के मुद्दे पर कैबिनेट में सहमति बनी और किसानो को दिए प्रस्ताव पर उनके रूख की प्रतिक्षा ही हुई। जिसके बाद कृषि मंत्री ने कानून को लेकर फिर सफाई पेश की। 

सरकार किसानों को बार-बार समझाने की कोशिश कर रही है लेकिन किसान अपनी मांगों पर अड़े हुए हैं। इस बीच सरकार ने लिखित में किसानों को प्रस्ताव भी भेज दिया है. इसके बाद कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने ट्वीट कर कृषि बिल को लेकर जरूरी बातें स्पष्ट की हैं।

समय पर भुगतान करना होगा
किसान आंदोलन (Farmers Protest) के बीच कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने नए कृषि कानूनों (New Farm Laws) का ‘सच’ देश के सामने रखा है। उन्होंने कहा है कि नए कृषि कानूनों का सच हर किसी को जरूर जानना चाहिए ताकि कोई भ्रम की स्थिति न रहे।

https://twitter.com/nstomar/status/1336602837237727234

कृषि मंत्री ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि ‘कृषि कानून एमएसपी 

(MSP) 

सिस्टम और एपीएमसी मंडियों 

(APMC)

 को प्रभावित नहीं करते हैं. किसान फसल उगाने से पहले ही उपज के दाम तय कर सकते हैं. खरीदारों को समय पर भुगतान करना होगा वरना कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा.’

किसान की जमीन कोई नहीं छीन सकता

कृषि मंत्री ने दूसरा ट्वीट किया है, ‘इन कानूनों के चलते किसान की जमीन किसी भी कारण से कोई नहीं छीन सकता है. खरीदार किसान की भूमि में कोई परिवर्तन नहीं कर सकते हैं. ठेकेदार पूर्ण भुगतान के बिना अनुबंध समाप्त नहीं कर सकता है.’

पूरी स्टोरी पढ़िए